एमपी हाउसिंग बोर्ड के भृष्ट सम्पदा अधिकारी व उपायुक्त निलम्बित, और भी भृष्ट अधिकारीयों पर होगी कार्यवाही

ग्वालियर– एमपी हाउसिंग बोर्ड के उपायुक्त एन के देशपांडे और सम्पदा अधिकारी अजित तिवारी अपने काले कारनामों को दबाने में जुट गए हैं। आपको बता दें कि इन दोनों अधिकारियों को अनियमितताओं के चलते मंगलवार को निलंबित कर दिया गया था। भवनों के गलत अलॉटमेंट के साथ नियम विरुद्ध निजी वाहनों के सरकारी खर्च पर उपयोग के कई आरोप इन अधिकारियों पर लगाये गए हैं। लेकिन इसके बाबजूद इन अधिकारियों का रुतबा इतना है कि यह बुद्धवार को कार्यालय समय से पूर्व पहुंच गए और कई सन्दिग्ध फाइलों को ले गए।

सूत्रों के अनुसार कई अन्य कर्मचारी व अधिकारी भी कई अनियमितताओं में लिप्त है। इस कार्यवाही को देख वह अपने बचाव के रास्ते ढूंढने में लग गए हैं।

सम्पदा अधिकारी अजित तिवारी पर अपने रिश्तेदार को नियमो को ताक पर रख भवन आवंटित करने का मामला काफी समय से सुर्खियों में था। जिसे रफा दफा करने के लिए वह भोपाल के चक्कर भी काट रहे थे। उपायुक्त एन के देशपांडे व सम्पदा अधिकारी अजित तिवारी के निलंबन से हाउसिंग बोर्ड के अन्य अधिकारियों में खलबली पैदा हो गई है। निलम्बित अधिकारियों द्वारा फाइलें ले जाने की खबर ने जब तूल पकड़ा तो नवीन पदस्थ उपायुक्त एस के सुमन ने शाम को सम्पदा अधिकारी का केविन सील कर दिया। दोनो दोषी अधिकारी कोनसे मामले की फाइलें लेकर गए हैं इस बात की जानकारी विभाग के कर्मचारी देने से कतरा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर उपायुक्त देशपांडे के निलंबन पर कर्मचारी अचंभित हैं।

Related posts

Leave a Comment