बेतुके बयान देने वाली अमिता सिंह फिर सुर्खियों में, पूरे सिस्टम को कहा भृष्ट और पत्रकारों को ब्लैकमेलर

अमिता सिंह तोमर वह नाम है जो सुर्खियों में रहने के लिए बेतुके बयान देने के लिए जाना जाता है। यह नाम  एक बार फिर सुर्ख़ियों में हैं, इस विवादास्पत महिला अफसर ने इस बार प्रशासनिक व्यवस्था पर ही उंगली उठा दी है। तहसीलदार अमिता सिंह ने पूरे सिस्टम को ही भ्रष्ट बता दिया है। अब सवाल यह उठता है कि मोहतरमा इसी सिस्टम में रह कर क्या कर रही हैं। कहीं मामला खिसियानी बिल्ली खम्बा नोचे का तो नहीं।

श्योपुर की तहसीलदार अमिता सिंह ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर की है, जिसमें कुछ ऐसी बातें लिखी गई है जो आपत्तिजनक हैं और विवादास्पद भी। चाटुकारिता और भ्रष्टाचार बनाम शासकीय सेवा शीर्षक से लिखी अपनी पोस्ट में अमिता सिंह ने नायब तहसीलदारों को भ्रष्ट कहा है। यही नहीं अमिता सिंह ने अपनी पोस्ट में पत्रकारों पर भी बड़े बड़े हमले किए हैं उन्होंने लिखा है कि ‘अभिव्यक्ति की आजादी सिर्फ ब्लैकमेलर पत्रकारों को मिली है।’

जो पोस्ट में उन्होंने अपनी भड़ास निकाली है आप खुद ही पढलें।

यह पहला मामला नही है जब विवादित अमिता सिंह ने सुर्खियां बटोरने के लिए बेतुका काम किया हो। ग्वालियर शहर के सम्मानित सेवा निवृत्त अधिकारी अखिलेन्दु अरजरिया को भी फेसबुक पर अपशब्द ये मोहतरमा कह चुकी हैं। अपने पालतू कुत्ते की मौत पर सरकारी जगह पर उसकी समाधि बना कर भी मेडम ने सुर्खियां बटोरी थी। अब अपने साथी तहसीलदारों से किस

खुन्नस का बदला लेने के लिए बतंगड़ खड़ा किया है ये तो वे ही जाने। लेकिन पूरे सिस्टम को ही भृष्ट बता देना उनकी कुंठा को प्रदर्शित करता है। इसके बीच मे पत्रकारों को उन्होंने क्यों घसीट लिया वे ही जाने। खेर आपको बता दे कि कोन बनेगा करोड़पति में 50 लाख जितने के बाद मोहतरमा पहली बार सुर्खियों में आई थी। शायद तभी से इनको सुर्खियों में रहने की बीमारी लगी हो।

 

Related posts

Leave a Comment