स्वास्थ्य व्यवसाय नही सेवा की श्रेणी में हो, ग्राहक पंचायत ग्वालियर ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से की मांग

ग्राहक पंचायत ग्वालियर द्वारा नई दिल्ली में श्री जे.पी. नड्डा , स्वास्थ्य मंत्री भारत सरकार को एक ज्ञापन सौंपा। स्वास्थ्य मंत्री भारत सरकार के साथ आज हुई मीटिंग के दौरान ग्राहक पंचायत ग्वालियर के प्रचार प्रमुख आकाश सोनी द्वारा जनहित में कुछ मांगो को लेकर ज्ञापन सौंपा गया !

प्रमुख मांगे निम्न थी
1. सरकारी हॉस्पिटल के डॉक्टर्स की प्राइवेट प्रैक्टिस पर। पूर्णतः प्रतिबंध लगाया जाए , सरकारी डॉक्टर्स को निजी नर्सिंग होम्स में सर्जरी करने से रोका जावे।

2. मध्य प्रदेश मेडिकल काउंसिल व इंडियन मेडिकल काउंसिल में डॉक्टरों की शिकायत दर्ज किए जाने पर काउंसिल द्वारा पीड़ित शिकायतकर्ता से ₹200 का डिमांड ड्राफ्ट मांगा जाता है , व काउंसिल द्वारा दोषी डॉक्टर को बचाया जाता है ! संबंधित ₹200 की फीस को समाप्त किया जाए ! व शिकायत को निशुल्क किया जाए !

3. स्वास्थ्य को व्यवसाय की श्रेणी से हटा कर सेवा की श्रेणी में लिया जाए !

4. मध्यप्रदेश के प्रत्येक जिले में जेनरिक दवाओ के स्टोर प्रभाव से खोले जाएं। !

 

श्री जेपी नड्डा जी द्वारा ग्राहक पंचायत के प्रतिनिधि आकाश जी सोनी को कहा गया कि मध्य प्रदेश मेडिकल काउंसिल और मेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया में शिकायत किए जाने हेतु लगने वाली फीस 200 रुपए को आप की मांग पर समाप्त कर दिया जाएगा ! साथ ही यह कहा कि मध्य प्रदेश के प्रत्येक जिले में आगामी छह माह के भीतर जेनेरिक दवाओं के स्टोर अमृत के नाम से खोले जाएंगे !

शेष अन्य मांगों पर विचार उपरांत कार्रवाई का आश्वासन दिया।

Related posts

Leave a Comment