कोचिंग सेन्टर में लगी आग ने ली 19 मासूमों की जांच, क्या आपके शहर की कोचिंग हैं सुरक्षित!

गुजरात के सूरत के सरथाना इलाके में स्थित तक्षशिला कॉम्प्लेक्स की दूसरी मंजिल पर लगी भीषण आग में 19 छात्रों की मौत हो गई।

जिस फ्लोर पर आग लगी वहां कोचिंग सेंटर चल रहा था. आग से बचने के लिए कोचिंग सेंटर में पढ़ने वाले कुछ छात्रों ने ऊपर से छलांग लगा दी, जिन्हें गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया.  सूरत के पुलिस कमिश्‍नर ने बातया कि हादसे में कम से कम 19 लोगों की मौत हुई है और इसकी संख्‍या बढ़ भी सकती है. सोशल मीडिया पर बिल्डिंग से छलांग लगाते हुए लोगों का वीडियो भी वायरल हो गया है. पीएम नरेंद्र मोदी, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने घटना पर दुख जताया है.

अब इस घटना से सबक लेकर क्या अन्य शहरों में बहुमंजिला इमारतों में चलने वाली कोचिंग पर सुरक्षा के प्रबंध अनिवार्य किये जायेंगे। बात मध्य प्रदेश की करेँ तो इंदौर भोपाल ग्वालियर के कई क्षेत्रों में नियमों को ताक पर रख कर कोचिंग सेन्टर संचालित है। जहां आग या किसी अन्य अनहोनी पर सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं। उन कोचिंग सेन्टर का न नगर निगम में पंजीयन अनिवार्य है न इन संस्थानों ने फायर डिपार्टमेंट की एनओसी ली होती है। भोपाल में एमपी नगर और ग्वालियर में फूलबाग, लक्ष्मी बाई कॉलोनी, थाटीपुर ओर रॉक्सी क्षेत्र में सेंकडो कोचिंग संस्थान संचालित है। लेकिन ज्यादातर के पास फायर डिपार्टमेंट की एनओसी नही है। इन कोचिंग में एक ही बेच में सेंकडो बच्चे पढ़ते हैं। किसी अग्निकांड केदौरान इन छात्रों का सुरक्षित निकलना नामुमकिन है।

अब देखना होगा कि सूरत की इस घटना से यहां का प्रशासन कोई सबक लेता है कि नहीं।

 

गजेंद्र इंगले

पत्रकार व समाजसेवी

Related posts

Leave a Comment