रामपाल दोषी करार, सजा पर फैसला 16-17 अक्टूकबर को, आस-पास के राज्यों में सुरक्षा कड़ी

नई दिल्ली: हिसार में नवम्बर 2014 में रामपाल से जुड़े बरवाला के सतलोक आश्रम में हत्‍या के दो मामलों में गुरुवार को कोर्ट ने रामपाल दोषी करार दिया है. रामपाल के ऊपर फैसले के मद्देजनर हरियाणा के हिसार शहर को पूरी तरह से छावनी में तब्दील कर दिया गया. किसी भी अप्रिय घटना की आशंकाओं से बचने के लिए पूरे हिसार शहर में धारा 144 लागाई गई है. वहीं, आसपास के 7 ज़िलों से पुलिस बल बुलाया गया है और RAF को स्टैंड बॉय पर रखा गया है. हिसार की सेंट्रल जोन जेल के भीतर ही कोर्ट लगी है, जिसमें फैसला सुनाया जाएगा. गौरतलब है कि पुलिस प्रशासन ने राम रहीम प्रकरण से सबक लेते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये हैं. हिसार के पंचकुला में राम रहीम पर कोर्ट के फैसले के बाद बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी, जिसमें कई लोगों की मौत हो गई थी और काफी नुकसान हुआ था.

 

लगभग 4 साल से जेल में बंद रामपाल पर सोमवार को हुई सुनवाई के बाद कोर्ट ने अपना फैसला गुरुवार यानी आज तक के लिए सुरक्षित रख लिया था. संत रामपाल का मामला 14 नवंबर 2014 का है, जब हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद एक मामले में रामपाल कोर्ट में पेश नहीं हुए थे. इसके बाद हाईकोर्ट ने रामपाल को पेश करने के आदेश दिए और पुलिस प्रशासन ने सतलोक आश्रम से रामपाल को निकालने के लिए ऑपरेशन चलाया. इस ऑपरेशन के दौरान 4 लोगों की मौत हो गई थी.

 

संत रामपाल पर कोर्ट के फैसले के मद्देनजर इस बात को ध्यान में रखते हुए पूरे आस-पास के राज्यों में सुरक्षा कड़ी की गई है. हिसार और उसके आसपास के इलाकों की सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी कर दी गई है. खबर है कि लोगों की सुरक्षा को देखते हुए हिसार जिले को एक किले में तब्दील कर दिया गया है. सिर्फ इतना ही नहीं सुनवाई के दौरान कोर्ट से तीन किलोमीटर तक का सुरक्षा घेरा बनाया गया है. इस सुरक्षा घेरे में किसी भी बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर पूर्ण रूप से पाबंदी लगा दी गई है. फैसला आने तक हिसार में इंटरनेट सेवा भी रोकी गई थी. लॉ एंड आर्डर की स्थिति को बनाए रखने के लिए मध्यप्रदेश, राजस्थान, पंजाब और हरियाणा के विभिन्न हिस्सों से हिसार आने वाली ट्रेनों को भी रद्द कर दिया गया है.

Related posts

Leave a Comment